इस बजट में प्रतापगढ में बालिका काॅलेज के लिए करेंगे प्रयास: माहेश्वरी

0
1357

उच्च शिक्षा मंत्री ने किया छात्रासंघ का उद्घाटन, पदाधिकारियों को दिलाई शपथ

प्रतापगढ। उच्च शिक्षा मंत्राी किरण माहेश्वरी ने कहा है कि प्रतापगढ़ जिला मुख्यालय पर राजकीय बालिका काॅलेज खुले, इसके लिए वे पुरजोर प्रयास करेंगी और उनकी कोशिश रहेगी कि इस बजट में इसकी घोषणा हो जाए। उच्च शिक्षा मंत्राी शनिवार को प्रतापगढ़ जिला मुख्यालय पर राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय में आयोजित छात्रासंघ उद्घाटन एवं शपथ ग्रहण समारोह में बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रही थीं। विज्ञान व काॅमर्स संकाय में स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम की जरूरत पर उन्होंने कहा कि यहां के जनप्रतिनिधि, छात्रा प्रतिनिधि एवं काॅलेज प्रशासन जरूरतों व रूचि को देखते हुए तय कर प्रस्ताव बना लें, किसी एक संकाय में हाथोंहाथ स्ववित्तपोषी व्यवस्था में पी.जी स्वीकृत कर दी जाएगी। विद्यार्थियों की ओर से स्वामी विवेकानंद की प्रतिमा के अनुरोध पर उन्होंने सभापति से इसके लिए कहा, जिस पर सभापति कमलेश डोसी ने तत्काल स्वामी विवेकानंद की प्रतिमा लगाने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार के उच्च शिक्षा के विकास के लिए समुचित प्रयास किए हैं। पहली बार राज्य में एज्युकेशन फेस्टिवल आयोजित किया गया। युवाओं में दक्षता संवर्धन के लिए राज्य के सभी 219 महाविद्यालयों मंे इग्नू के सहयोग से 16 विषयों में कौशल विकास पाठ्यक्रम शुरू किए गए हैं। उन्होंने महाविद्यालय के विकास में स्थानीय विधायक एवं जनजाति मंत्राी नंदलाल मीणा के प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि उन्होंने मंत्राी बनने के बाद इस जिले को विकास के नए आयाम दिए हैं। उन्होंने कहा कि रूसा योजना में पिछले वर्ष प्रदेश के 100 काॅलेज शामिल किए गए थे, जिनके लिए केंद्र से 200 करोड़ मिले हैं। इस बार शेष 119 महाविद्यालयों को भी शामिल कर लिया जाएगा, जिसमें प्रतापगढ का काॅलेज भी शामिल होगा। इससे महाविद्यालयों के विकास के नए अवसर मिलेंगे और करोड़ों का बजट प्राप्त होगा। आने वाले समय में काॅलेज शिक्षा में पैसों की कमी नहीं रहेगी। उन्होंने कहा कि काॅलेज लेक्चरर भर्ती अब अंतिम दौर में है, इंटरव्यू के बाद काॅलेजों में व्याख्याताओं का अभाव कम होगा। तब तक यहां वैकल्पिक व्यवस्था के रूप में संविदा पर लेक्चरर रखे जा सकते हैं। यहां से इस तरह का प्रस्ताव मिलने पर तत्काल स्वीकृति दे दी जाएगी। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार उच्च शिक्षा को लेकर बहुत पाॅजिटिव हैं, यहां जनप्रतिनिधि, छात्रा प्रतिनिधि और काॅलेज प्रशासन मिलकर विकास व विस्तार के प्रस्ताव बनाएं, उन्हें मंजूरी दी जाएगी। राजकीय काॅलेज का नामकरण महाराणा प्रताप के नाम पर किए जाने के अनुरोध पर उन्होंने कहा कि वे इसके लिए केबिनेट में पूरे प्रयास करेंगी। हम तो चाहते हैं कि प्रदेश के प्रत्येक महाविद्यालय का नाम किसी साहित्यकार के नाम पर हो। उन्होंने छात्रासंघ पदाधिकारियों को शुभकामनाएं देते हुए कि युवाओं में राष्ट्र व समाज को बदलने की ताकत है, अपनी ताकत को पहचानें और देश व समाज के निर्माण के लिए काम करें।

विशिष्ट अतिथि सभापति कमलेश डोसी ने प्रतापगढ जिले के विकास के लिए जनजाति मंत्राी नंदलाल मीणा और उच्च शिक्षा मंत्राी किरण माहेश्वरी के योगदान की सराहना करते हुए कहा कि जनजाति मंत्राी ने इस काॅलेज के विकास के लिए छह करोड़ रुपए दिए हैं, जो महत्वपूर्ण हैं। यहां छात्रावास का निर्माण भी उनकी दूरदर्शिता का प्रमाण है। उन्होंने छात्रासंघ पदाधिकारियों से कहा कि वे सकारात्मक सोच के साथ काम करें और काॅलेज में शैक्षणिक विकास के लिए समर्पित होकर प्रयास करें। छात्रासंघ अध्यक्ष शांतिलाल मीणा ने जिला मुख्यालय पर बालिका काॅलेज की स्थापना, अतिरिक्त संकायों में पीजी खोलने, व्याख्याताओं व मंत्रालयिक कर्मचारियों के रिक्त पद भरने का अनुरोध उच्च शिक्षा मंत्राी से किया। प्रिंसिपल ने काॅलेज की उपलब्धियों के बारे में बताया। डाॅ पी आर कोली ने आभार जताया। विशिष्ट अतिथि धनराज शर्मा, भगवती देवी झाला, संदीप श्रोत्रिय ने भी विचार व्यक्त करते हुए छात्रों का राष्ट्रवादी सोच के साथ काम करने का आह्वान किया। मुख्य परामर्शदाता डाॅ एन के जैन ने चुनाव प्रतिवेदन प्रस्तुत किया।

इससे पहले उच्च शिक्षा मंत्राी ने फीता काटकर छात्रासंघ कार्यालय का उद्घाटन किया तथा छात्रासंघ पदाधिकारियों को शपथ दिलाई। इस दौरान उप जिला प्रमुख आशीष जैन, छात्रासंघ उपाध्यक्ष तुलसीराम निनामा, महासचिव अंकुश लबाना, संयुक्त सचिव लीना शर्मा सहित बड़ी संख्या में जनप्रतिनिधि, काॅलेज व्याख्याता एवं विद्यार्थी मौजूद थे। संचालन व्याख्याता डाॅ एमएल मेघवाल ने किया।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here