चूरू में कोई भी जरूरतमंद भूखा नहीं सोयेगा-सभापति पायल सैनी

0
466

बेसहारा भी रैन बसेरे में ले सकेगे सहारा

चूरू। प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की कोरोनाकाल की दूसरी लहर के मध्यनजर गरीब, मजदूर एवं दिहाडी श्रमिक जो कि लॉकडाउन के कारण प्रभावित हुये है और उनके सामने रहने, खाने-पीने का संकट पैदा ना हो इसी के मध्यनजर उनकी घोषणा कोई भी भूखा न सोये को अमलीजामा पहनाने के लिये चूरू नगरपरिषद पूरे मनोयोग के साथ जूटी हुयी है। नगरपरिषद सभापति पायल सैनी ने बताया कि मुख्यमंत्री के इस सन्देष के बाद नगरपरिषद पूरी तरह हरकत में आ गयी है और प्रतिदिन असहाय एवं जरूरतमंद लोगो को निषुल्क भोजन के पैकेट उपलब्ध करवाये जा रहे है। गत सप्ताह शुरू की गयी यह योजना कोरोनाकाल के खत्म होने तक भामाषाहो के सहयोग से जारी रहेगी इसकी शुरूआत स्वयं सभापति पायल सैनी ने गुरूवार को रामसरा रोड पर स्थित झुग्गी झोपडियो के सौ व्यक्तियो को भोजन के पैकेट वितरित कर की। उन्होने बताया कि इन्दिरा रसोई के माध्यम से प्रतिदिन मांग के अनुसार भोजन के पैकेट जरूरतमंद लोगो में वितरित किये जा रहे है। शनिवार रात को देपालसर रोड पर झुग्गी झोपडियो में तथा रविवार सुबह रामसरा रोड पर इन्दिरा रसोईयो के प्रभारी अजय सिंह शेखावत और अजय वर्मा द्वारा स्वयं मौके पर जाकर जरूरतमंदो को दो सौ भोजन के पैकेट वितरित किये गये। उन्होने भामाषाहो से अपील करते हुये कहा है कि यह समय सेवा कार्य का समय है सभी अपने सामर्थय अनुसार संकट के इस समय में जरूरतमंद को भोजन खिलाकर पुण्य के भागी बने। नगरपरिषद आयुक्त हेमाराम चैधरी ने बताया कि कोई भी असहाय और जरूरतमंद चूरू में संचालित आश्रय स्थलो में आकर ठहर सकता है जहां उसको ठहरने एवं खाने आदि की सभी व्यवस्थाये नगरपरिषद द्वारा निषुल्क उपलब्ध करवायी जायेगी। उन्होने बताया कि कोरोनाकाल के दौरान जिन श्रमिको, मजदूरो के रहने के स्थान बन्द हो गये है वे नगरपरिषद के आश्रय स्थल में शरण ले सकते है जहां उन्हे घर जैसा माहौल उपलब्ध करवाया जा रहा है। उन्होने सभी जरूरतमंदो से अपील भी की है कि प्रदेष के मुख्यमंत्री अषोक गहलोत द्वारा पीडित मानवता की सेवा के लिये किये जा रहे इस प्रयास का लाभ उठाते हुये कोरोनाकाल के इस समय में शासन और प्रषासन का सहयोग करे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here