मरीजों को अब मिल सकेगी शत प्रतिशत शुद्ध प्राणवायु

0
322

राजकीय डीबी जनरल अस्पताल में स्थापित किए 10 — 10 हजार लीटर क्षमता के दो टैंक

 

चूरू।कोरोना काल में प्राणवायु आक्सीजन की कमी के चलते अस्पतालों में भर्ती मरीजों की परेशानियों को देखते हुए राजस्थान सरकार ने चूरू के राजकीय डी बी जनरल अस्पताल में 90 लाख की लागत से लिक्विड मेडिकल आक्सीजन स्टोरेज के लिए दो टैंक भिजवाए है। एनआरएचएम द्वारा भिजवाए गए दस — दस हजार लीटर स्टोरेज क्षमता वाले दौनों टैंक्स को ब्लड बैंक के निकट स्थापित किया गया है।पीडीयू मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. महेश मोहन पुकार ने बताया कि राजस्थान सरकार की ओर से दस — दस हजार लीटर क्षमता वाले 90 लाख रूपये कीमत के दो लिक्विड मेडिकल आक्सीजन स्टोरेज टैंक्स प्राप्त हुए है जिनका इंस्टालेशन जिला अस्पताल में करवा दिया गया है। इसकी सहायता से हाई स्पीड के साथ शत प्रतिशत शुद्ध आक्सीजन सप्लाई अस्पताल के 450 से अधिक बैड्स पर निर्बाध रूप से संभव हो पाएगी।इसकी विशेषता ये है कि इस प्लांट की बिजी पर निर्भरता नहीं के बराबर रहेगी और आपातकाल में जरूरतमंद रोगियों को आक्सीजन की सप्लाई मिल सकेगी।
पीडीयू मेडिकल कॉलेज के एचओडी एनस्थिसिया डॉ दीपक चौधरी ने बताया कि अब से पहले अस्पताल में आक्सीजन सप्लाई के लिए सिलेंडर पर निर्भर थे, कोविड काल में पीएसए आक्सीजन जेनरेशन प्लांट भी स्थापित किए गए। ये प्लांट वातावरण से आक्सीजन ग्रहण कर सप्लाई करता है, जिससे प्राप्त आक्सीजन की शुद्धता 94 प्रतिशत होती है लेकिन बिजली पर निभरता रहती है। यह प्लांट आईसीयू व वेंटिलेर के रोगिया के लिए बहुत लाभदायक होगा तथा बिजली पर निर्भरता नहीं के बराबर रहेगी। टैंक्स के खाली होने पर इन्हे दोबारा से रिफिल करवाया जा सकेगा।
आपको बता दें कि जिला अस्पताल में पहले से ही 5 पीएसए आक्सीजन प्लांट्स बने हुए है, अब लिक्विड मेडिकल आक्सीजन प्लांट्स बनने के बाद राजकीय भरतिया अस्पताल में भर्ती मरीजों को आक्सीजन की कमी के चलते परेशानी का सामना नहीं करना पडेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here