आरजीपीआरएस का दो दिवसीय चिंतन शिविर सम्पन्न

0
929

चूरू। राजीव गांधी पंचायती राज संघठन द्वारा चूरू में सम्भाग स्तरीय दो दिवसीय ‘चिंतन व प्रशिक्षण शिविर’ का आयोजन किया गया। शिविर में चूरू, हनुमानगढ़, बीकानेर व श्रीगंगानगर जिले से जनप्रतिनिधियों व राजीव गांधी पंचायती राज संघठन से जुड़े पदाधिकारियों ने भाग लिया।
राजीव गांधी पंचायती राज संघठन के राजस्थान प्रभारी केवल सिंह पठानिया, प्रदेश संयोजक अमित पुनिया, राष्ट्रीय महासचिव राजकुमार किराडू, राष्ट्रीय महासचिव अरविन्द बाघ, सम्भाग प्रभारी धनराज सिहाग मुख्य वक्ता के रूप से उपस्थित थे।
शिविर में पंचायती राज सशक्तिकरण व विकेंद्रीकरण की समझ को बढ़ावा देने हेतु आये हुए जनप्रतिनिधियों से सुझाव मांगे व आवश्यक दिशानिर्देश दिए गए तथा इसमें राजीव गांधी पंचायती राज संघठन की भूमिका पर भी चर्चा की गई। प्रदेश प्रभारी केवल सिंह पठानिया ने कांग्रेस की विचारधारा व रीतिनीति के बारे में बताया और वर्तमान राजनीतिक व सामाजिक परिस्थितियों में कांग्रेस किस प्रकार सत्य, अहिंसावादी व गंगा-जमुना सांझी विरासत की सोच के आधार पर देश को एकजुट रख सकती है। प्रदेश संयोजक अमित पूनिया ने वर्तमान राजनीतिक परिदृश्य में पंचायती राज की भूमिका पर प्रकाश डाला तथा राजनीतिक में समावेश की चुनौती पर भी अपने विचार रखे और बताया कि किस प्रकार से पंचायती राज के प्रतिनिधियों द्वारा इस वर्तमान राजनीतिक स्वरूप को बदला जा सकता है।राष्ट्रीय महासचिव राजकुमार किराडू ने कांग्रेस पार्टी को मजबूत करने में राजीव गांधी पंचायती राज संघठन किस प्रकार से भूमिका निभा सकता है और कांग्रेस की सोच को लोगों तक पहुंचाने को कहा। उन्होंने सभी प्रतिभागियों को बूथ बूथ व वार्ड वार्ड जाकर जन संवाद करने को कहा और आमजन से जुड़े मुददों पर काम करने को कहा।
राष्ट्रीय महासचिव अरविन्द बाघ ने संघठन के स्थापना से वर्तमान सफर के बारे में बताया तथा संघठन के उद्देश्य व लक्ष्यों के बारे में बताया ओर साथ ही 73वे ओर 74वे सविंधान संशोधन के बारे में विस्तारपूर्वक बताया और नए नेत्रत्व की खोज मे संघठन को मिली जिम्मेदारी के बारे मे बताया। सम्भाग प्रभारी धनराज सिहाग ने बताया कि हर आमजन की राजनीतिक कार्यों में सहभागिता होनी चाहिए और अंतिम छोर पर खड़े व्यक्ति को साथ लेकर चलने पर बात कही।
शिविर में विभिन्न मुद्दों पर समूह चर्चा की गई जिनमें राजनीति में समावेश की चुनौती, राज्य में पंचायती राज की स्थिति, कांग्रेस से जुड़ाव के कारण, राजनीति का वर्तमान स्वरूप से जुड़े आदि मुद्दे प्रमुखता से शामिल किए गए। शिविर मे जिला संयोजक नरेश गोदारा, भारत सुंङा, हुसैन सैयद, सुरेंद्र सिंघल, निर्मला सिंघल, विकास बुडानिया, विजय पंवार, असलम चौहान, सुभाष मेघवाल, प्रताप पूनिया सहित सैकङो कार्यकर्ता उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here