शिक्षा की गुणवता सुधारने के लिए समाज को स्वयं आगे आना होगा- राजेन्द्र राठौड़

0
467

चूरू। नगरपरिषद् में ब्लाॅक स्तरीय मदरसों के अध्यक्ष एवं सचिव आदि सदस्यों की कार्यशाला सम्पन्न हुई। समारोह में ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज मंत्री राजेन्द्र सिंह राठौड़ ने कहा कि समय बदल गया है। शिकायत के नाम पर भेदभाव सहन नहीं किया जावेगा। मदरसों में शिक्षा की गुणवता सुधारने के लिए समाज को स्वयं आगे आना होगा। मदरसों में दीन के साथ-साथ दुनियंा की तालिम भी अत्यन्त आवश्यक है। मंत्री महोदय की ओर से इस अवसर पर उपस्थित जनसमूह से आहृवान किया कि मदरसों के विकास के लिए मुख्यमंत्री मदरसा जन सहभागिता योजना में 60 व 40 अर्थात कुल प्रस्तावित प्रोजेक्ट की 40 प्रतिशत राशि स्वयं संबंधित मदरसा कमेटी को एकत्रित करनी होगी। ऐसा होने पर शेष 60 प्रतिशत राशि विकास हेतु सरकार की ओर से मुहैया करवाई जावेगी। इस पर नरूल उलम मदरसा ने 5.00 लाख, सब्जी फरोश मदरसा ने 4.00 लाख, डाॅ. जाकिर हुसैन मदरसा ने 4.00 लाख रू. की सहयोग राशि एकत्रित कर इस योजना का लाभ उठाने का संकल्प लिया। कार्यक्रम का आयोजन मदरसा बोर्ड के जिला अध्यक्ष अख्तर खान ने कहा कि समाज को लोगों को मदरसों के लिए हर संभव कार्य मन लगाकर करना होगा। जिससे समाज के युवाओं का शिक्षा के क्षेत्र में आगे आने का अवसर मिलता रहेगा। इस अवसर पर सभापति विजय कुमार शर्मा एवं जिला प्रमुख हरलाल सहारण ने भी उपस्थित जनसमूह को सम्बोधित किया गया। सभापति विजय कुमार शर्मा ने कहा कि मदरसों में अध्ययनरत बच्चों का भविष्य उज्जवल बनानें के लिए नगरपरिषद् की ओर से हरसम्भव सहयोग किया जावेगा। कार्यक्रम में डाॅ. वासुदेव चावला, अनवर थीम, डाॅ. मुमताज अली, रमाकान्त औझा, मुरलीधर शर्मा, युसुफ खान राणासर, हेमसिंह शेखावत, परिषद् आयुक्त बी.एल.सोनी, अल्पसंख्यक अधिकारी माधव प्रसाद शर्मा, कार्यक्रम अधिकारी दयानन्द गढ़वाल आदि उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन डाॅ. एमएम शेख द्वारा किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here