महिलाओं ने सामाजिक कुरीतियों से आगे बढ़कर समाज को दी नई दिशा — सत्यानी

0
349

जिला कलक्टर पुष्पा सत्यानी ने अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के उपलक्ष में महिलाओं को किया सम्मानित, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण सचिव डॉ शरद व्यास सहित अधिकारी रहे मौजूद

चूरू। जिला कलक्टर पुष्पा सत्यानी ने कहा है कि महिलाओं ने सामाजिक कुरीतियों से आगे बढ़कर समाज को एक नई दिशा दी है। महिलाएं सम्पूर्ण सामाजिक ढांचे का आधार हैं। समाज को प्रगति के अव्वल स्तर पर लाने में महिलाओं की अग्रणी भूमिका है।
जिला कलक्टर पुष्पा सत्यानी सोमवार को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के उपलक्ष में जिला मुख्यालय स्थित महिला अधिकारिता विभाग कार्यालय में आयोजित कार्यक्रम में संबोधित कर रही थी। उन्होंने कहा कि बिना महिलाओं के कल की कल्पना करना भी मुश्किल है। समस्त कार्यों में महिलाएं पहली पंक्ति में खड़ी होकर आज समाज को प्रगति पथ पर आगे बढ़ाने का काम कर रही हैं। महिलाओं के सराहनीय कार्यों से ही समाज ने महिलाओं को आज रिकग्नाइज करना शुरू किया है और उन्हें उचित स्थान व सम्मान मिल रहा है।
उन्होंने उपस्थित महिलाओं से कहा कि महिलाएं स्वयं के स्वास्थ्य पर समुचित ध्यान दें। अपने कामकाज के साथ पारिवारिक ढांचे और सामाजिक उन्नयन पर काम करें। महिलाएं अपनी जिम्मेदारियों के निर्वहन के दौरान किसी प्रकार के संतुलन नहीं बनने से स्वयं को दोषी नहीं ठहराएं। उन्हें अपराधबोध से मुक्त रहकर अपने दायित्वों का समुचित निर्वहन करना है। महिलाएं अपने लिए जीना सीखें और स्वयं को प्रथमिकता बनाते हुए सेल्फकेयर पर ध्यान दें।
उन्होंने कहा कि लैंगिक समानता, महिलाएं परिवार नियोजन व पर्याप्त पोषण अपनाएं। अपने परिवेश की अशिक्षित व घरेलू कामकाजी महिलाओं को भी प्रेरित करें। सामाजिक कुरीतियों को दूर करने से ही समाज एक सुदृढ़ संरचना बन पाएगा। हम सभी समन्वित होकर महिला अधिकारों पर कदम बढ़ाएंगे।
विशिष्ट अतिथि जिला विधिक सेवा प्राधिकरण सचिव डॉ शरद कुमार व्यास ने कहा कि महिलाओं के उन्नयन से ही सामाजिक ढांचे का सर्वांगीण विकास होगा। सामाजिक संरचना पूर्णतया महिलाओं पर निर्भर करती है। देश-दुनिया की महिलाओं के समानांतर हमारे क्षेत्र की महिलाओं को भी समुचित अवसर मिले, जिससे सामाजिक संरचना में महिलाओं की भूमिका सुदृढ़ हो। महिलाओं को समाज की मुख्यधारा में शामिल करते हुए उनके सशक्तिकरण के लिए प्रयास किए जाने चाहिए।
इस दौरान जिला कलक्टर पुष्पा सत्यानी, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण सचिव डॉ शरद व्यास, आईसीडीएस उपनिदेशक डॉ नरेन्द्र शेखावत, महिला अधिकारिता विभाग उपनिदेशक विप्लव न्यौला, अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी अनीश खान, सीडीपीओ सीमा गहलोत, सीडीपीओ शकुंतला खटावला, सीडीपीओ शिवराज सिंह सहित अतिथि मंचस्थ रहे। महिला अधिकारिता विभाग उपनिदेशक विप्लव न्यौला ने अतिथियों का स्वागत किया।
मंचस्थ अतिथियों ने एक बच्ची होने पर नसबंदी करवाने वाली बाला देवी, खीवणी देवी, सरिता, पिंकी, पायल, मीना, सरोज व विमला देवी को 1100 रुपए नकद पुरस्कार, प्रशस्ति-पत्र व शॉल से सम्मानित किया। इसी क्रम में संजू को जिला स्तर पर सर्वश्रेष्ठ साथिन के लिए 3100 रुपए व प्रशस्ति-पत्र, संपत देवी, गीता देवी, मनिषा जाखड़, चूकि देवी, मंजू, मुन्नी देवी व सुमन जाट को ब्लॉक स्तर पर सर्वश्रेष्ठ साथिन तथा कृष्णा, अंजना, रूबीना, ज्ञानप्रकाश, अरूणा, रीना देवी, सीमा देवी, शारदा देवी, राधा देवी सहित विभागीय कार्मिकों को उत्कृष्ट विभागीय कार्य एवं रॉयल ग्रेन याराना सेवा समिति शेखावाटी, रवीना कंवर, सोनू, बॉक्सर अंजू प्रजापत, सुनिता शर्मा व सुमित्रा खेल सहित अन्य समाजसेवा के क्षेत्र में उत्कष्ट कार्य के लिए 1100 रुपए व प्रशस्ति-पत्र भेंट कर सम्मानित किया। इसी क्रम में संजू, मधु शर्मा, अफसाना बानो, पुष्पा शेखावत, सविता सैनी, मंजू शर्मा, हेमलता शर्मा, दर्शना देवी, सरोज आदि आंगनबाड़ी कार्यकताओं को 5100 रुपए व सीमा, सरिता प्रजापत, सुमन कंवर, शारदा देवी, सीता, प्रेमलता, ममता, रोशनी देवी व सुनिता आदि आशा सहयोगिनी महिलाओं को 2100 रुपए, प्रशस्ति-पत्र भेंट कर सम्मानित किया गया। इस दौरान संरक्षण अधिकारी जयप्रकाश, सुपरवाइजर पूजा गेट, संगीता, कृष्णा, संगीता, शकुंतला, सुशीला, निशा, अंकिता सहित अन्य उपस्थित रहे। संचालन सुपरवाइजर ज्योति वर्मा ने किया।

पद्मभूषण देवेन्द्र झाझडिया बने पैरा ओलम्पिक कमेटी के अध्यक्ष

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here