राजस्थानी साहित्य के विकास में कन्हैयालाल सेठिया की महत्वपूर्ण भूमिका हैं- संतोष चौधरी

0
542

सुजानगढ़।स्थानीय मरूदेश संस्थान के मासिक कार्यक्रम “कुछ बातें सेठिया जी की, कुछ रचनाएं सेठिया जी की ” में बोलते हुए हिंदी और राजस्थानी की वरिष्ठ रचनाकार संतोष चौधरी ने कहा कि राजस्थानी साहित्य के विकास में सेठिया का महत्वपूर्ण योगदान रहा है और उनके साहित्य में मातृभूमि की सौंधी महक मिलती हैं। मरूदेश संस्थान के अध्यक्ष डॉ. घनश्याम नाथ कच्छावा ने बताया कि कन्हैया लाल सेठिया साहित्य संवाद श्रृंखला में रविवार को फेसबुक लाइव प्रसारण में संतोष चौधरी ने सेठिया के रचना संसार में सांस्कृतिक पक्ष पर अपनी समीक्षात्मक बात रखी। संतोष चौधरी ने उनके व्यक्तित्व और कृतित्व पर बोलते हुए कहा कि कन्हैया लाल सेठिया अपने युग की विभिन्न भाव और विचारधाराओं से यथेष्ट प्रभाव ग्रहण करते हुए भी अपने काव्य में अपनी विशिष्टता और वर्चस्विता को अक्षुण्ण बनाये हुए है। संतोष चौधरी ने अपने एक घंटे से अधिक पत्रवाचन में कहा कि सेठिया जी आधुनिक साहित्य जगत के उन अग्रणी संवेदनशील साहित्यकारों में से है जिन्होंने हिंदी और राजस्थानी साहित्य को नई क्षमता, नई शैली, नई जीवन दृष्टि और नव संवेदना की नूतन भाव भूमि प्रदान की। उन्होंने सेठिया की विभिन्न कविताओं को भी संदर्भ में सुनाया और अपने विवाह का जिक्र करते हुए धरती धोरां री गीत के प्रसंग को भी जोड़ा। उन्होंने कहा कि वे एक जीवन के शाश्वत सत्यों का संधान करने वाले संत कवि थे जिनके मन में मातृभाषा के लिए तड़फ थी। कार्यक्रम के संयोजक किशोर सैन और सुमनेश शर्मा ने आभार व्यक्त किया।कार्यक्रम के संचालक में मुदित तिवाड़ी का तकनीकी सहयोग रहा। इस अवसर पर साहित्य अकादमी नई दिल्ली के राजस्थानी भाषा परामर्श मंडल के संयोजक मधु आचार्य आशावादी,सेठिया के पुत्र जय प्रकाश सेठिया , डॉ. मीनाक्षी बोराणा, हरि व्यास, किरण राजपुरोहित नीतिला, शंकर शर्मा, डॉ. गजेसिंह राजपुरोहित, डॉ. सुरेंद्र डी सोनी, अलका चौधरी, डॉ. जितेंद्र निर्मोही, अशोक पुरोहित, मधुर परिहार, विनोद स्वामी, रामरतन लटियाल, वीणा चौहान, डॉ. शालिनी गोयल राजवंशी, पूजा राजपुरोहित, रेखा लोढ़ा, रतन सैन, सिद्धार्थ सेठिया, राहुल सेठिया, सुरेंद्र स्वामी, जगदीश मेघवाल, प्रतिमा पुलक, भैराराम बेनीवाल, शमसुद्दीन स्नेही, पंकज खेतान, बीएल गिलान, इसाक खान चौधरी आदि लोग जुड़े।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here