ऎसा माहौल बने कि घर-घर में पैदा हों खिलाड़ी — पद्मश्री कृष्णा पूनियां

0
397

विधायक कृष्णा पूनिया की पहल पर राजगढ़ में हुआ ओलम्पियनों का संगम, राजगढ़ राउमावि खेल मैदान में टोक्यो ओलंपिक में मेडल जीतने वालों एवं भाग लेने वालों का सम्मान,

रजत विजेता रवि दहिया, कांस्य विजेता बजरंग पूनिया, हॉकी गोलकीपर सविता पूनिया, कमलप्रीत कौर से मिलकर युवाओं में दिखा उत्साह

चूरू।अमित तिवारी

विधायक कृष्णा पूनिया की पहल पर राजगढ़ में टोक्यो ओलंपिक में मेडल जीतने वालों और भाग लेने वाले खिलाड़ियों का महाकुंभ शनिवार को नजर आया। ओलंपिक में मेडल जीतने वाले और भाग लेने वाले एक से बढ़कर एक खिलाड़ियों की एक झलक पाने और सेल्फी लेने को लेकर युवा बेताब नजर आए।शनिवार को राउमावि खेल मैदान में हुए समारोह में टोक्यो ओलंपिक के दस खिलाड़ियों ओलंपिक रजत विजेता रवि दहिया, कांस्य विजेता बजरंग पूनिया, स्टार गोलकीपर सविता पूनिया, कमलप्रीत कौर, दिव्यांश पंवार, मनु भाखर, दीपक पूनिया, भावना जाट, संदीप कुमार, अर्जुन लाल को नकद राशि देकर पुरस्कृत किया गया तथा पुष्पवर्षा, माल्र्यापण, शॉल और प्रशस्ति पत्र देकर सम्मान किया गया। खिलाड़ियों ने इस अवसर पर अपने संघर्ष और सफलता के अनुभव साझा किए और युवाओं से खेलों की दुनिया में आगे बढ़ने का आह्वान किया।इस मौके पर संबोधित करते हुए पूर्व ओलंपिक खिलाड़ी सादुलपुर विधायक पद्मश्री डॉ कृष्णा पूनिया ने कहा कि जिन खिलाड़ियों ने ओलंपिक में देश के तिरंगे का मान बढ़ाया, उन्हें राजगढ़ की धरती पर सम्मानित करके बहुत गौरव की अनुभूति हो रही है। हम सभी को अपने बच्चों को खेलों के लिए तैयार करना चाहिए और उनकी प्रतिभा को अवसर देना चाहिए। राजगढ़ में घर-घर में खिलाड़ी पैदा हों और अंतरराष्ट्रीय स्तर की सुविधाएं यहां खिलाड़ियों को मिले, यह मेरा सपना है। राज्य सरकार ने राजगढ़ में खेल स्टेडियम के लिए 46 बीघा भूमि आवंटित कर 10 करोड़ रुपये की वित्तीय स्वीकृति प्रदान की है। उन्होंने कहा कि कोई भी खिलाड़ी एक दिन में ओलंपियन नहीं बनता, उसके पीछे बरसों की साधना होती है। सामान्य घर से निकले इन सब खिलाड़ियों की सफलता इस बात का संदेश देती है कि हमारे बच्चे भी मेहनत करें तो ओलंपिक स्टार बन सकते हैं। उन्होंने राजगढ़ में हुए विकास कार्यों की चर्चा करते हुए कहा कि ट्रोमा सेंटर के लिए 6 करोड़ की स्वीकृति आ चुकी है।

सार्थक साबित होगा आयोजन

सुजानगढ विधायक मनोज मेघवाल ने कहा कि इन खिलाड़ियों को देखकर लगता है कि कोई भी बालक मेहनत करके आगे बढ़ सकता है। मंडावा विधायक रीटा चौधरी ने कृष्णा पूनिया को शेरनी बताते हुए उनके कार्यों की सराहना की। भादरा विधायक बलवान पूनिया ने कहा कि मुख्यमंत्री खेल मैदान विकास के लिए बहुत काम कर रहे हैं। इसी तरह खिलाड़ियों की डायट एवं अन्य व्यक्तिगत लाभ के लिए भी काम होना चाहिए। नोहर विधायक अमित चाचाण ने इस सार्थक आयोजन के लिए कृष्णा पूनिया की सराहना की और खिलाड़ियों को तिरंगे का मान बढाने के लिए साधुवाद दिया।

खेल को बढावा ही कार्यक्रम का उद्देश्य

राज्य के मुख्य खेल अधिकारी द्रोणाचार्य अवार्डी वीरेंद्र पूनिया ने कार्यक्रम का संचालन करते हुए कहा कि क्षेत्र के बच्चों को खेल के लिए प्रेरित करना इस समारोह का उद्देश्य है। उन्होंने आयोजन में सहयोग करने वाले सभी लोगों का आभार जताया। इस दौरान खेल प्रशिक्षक महावीर फोगाट, प्रवीण दहिया, सपना पूनिया, नितेश पूनिया, ललिता गुलेरिया, सोमपाल पूनिया सहित खेल की दुनिया में अपना योगदान देने वाले स्थानीय खिलाड़ियों का भी सम्मान किया गया। कार्यक्रम में एसडीएम पंकज गढ़वाल, भल्ले राम पूनिया, पूर्व जिला प्रमुख भंवरलाल पुजारी, सतीश पूनिया, एडवोकेट पुष्पकान्त शर्मा, आसिफ खान, महावीर नेहरा, पूर्व चैयरमेन मंगतूराम मोहता, नंदकिशोर दायमा, राकेश पूनिया, अशोक बैरासरिया, रंगलाल पूनिया, देवेंद्र पूनिया, राम अवतार पूनिया, रिटायर्ड एएसपी अंतर सिंह पूनिया, सूरत सिंह पूनिया, अशोक बैरासरिया, नियाज मोहम्मद, संजीव पूनिया, कृष्ण धनखड़, विक्रम पूनिया, रामकुमार पूनिया, राजकुमार बेनीवाल, पवन सैनी सहित बड़ी संख्या में जनप्रतिनिधि, अधिकारी, नागरिक, खिलाड़ी एवं खेलप्रेमी युवा मौजूद थे।

खिलाड़ियों ने साझा किए अनुभव

कार्यक्रम के दौरान खिलाड़ियों ने अपने अनुभव साझा करते हुए युवाओं से कहा कि वे भी अपने मां-पिता के सपनों को साकार करने के लिए मेहनत करें और एक लक्ष्य बनाकर उसके लिए जुट जाएं। रजत विजेता ने कार्यक्रम की सराहना करते हुए कहा कि इससे यहां के बच्चों को मोटीवेशन मिलेगा और वे खेलों की दुनिया में आगे बढेंगे।कांस्य विजेता बजरंग पूनिया ने कहा कि आज यहां सम्मानित होकर बहुत अच्छा महसूस हो रहा है। युवा मेहनत करें तो वे भी सफलता अर्जित कर सकते हैं, फिर पूरा हिंदुस्तान उनका सम्मान करेगा। गोलकीपर सविता पूनिया ने कहा कि ऎसे कार्यक्रमों से अलग ही एनर्जी और मोटीवेशन मिलता है। उन्होंने लोगों से कहा कि वे अपने बच्चों को सपोर्ट करें। यदि लक्ष्य बनाकर मेहनत करेंगे तो टाइम लग सकता है लेकिन सफलता अवश्य मिलती है। सविता के पिता ने विचार व्यक्त करते हुए अभिभावकों से कहा कि वे खुद शुरुआत करें और बच्चों को एक दिशा दें। मनु भाखर ने कहा कि आज तक आप जैसे प्यार व सपोर्ट करते आए हैं, वैसे ही प्यार व सपोर्ट देते रहें, अगले ओलंपिक में पदक अवश्य जीतूंगी। कमलप्रीत कौर ने कहा कि उन्होंने कृष्णा पूनिया को देखकर डिस्कस थ्रो करना शुरू किया, आज इनके हाथों सम्मानित होकर अच्छा लग रहा है। दीपक पूनिया समेत दूसरे खिलाड़ी सम्मान व प्यार से भावविभोर नजर आए।

नकद राशि से किया सम्मानित

कार्यक्रम के दौरान ओलंपिक पदक विजेताओं, प्रतिभागियों के साथ-साथ स्थानीय खिलाड़ियों को भी नकद राशि से पुरस्कृत किया गया। रजत विजेता रवि दहिया व कांस्य विजेता बजरंग पूनिया को पांच-पांच लाख, कमलप्रीत कौर, सविता पूनिया व संदीप को तीन-तीन लाख, मनु भाखर को दो लाख तथा दिव्यांश पंवार, दीपक पूनिया, भावना जाट व अर्जुन लाल को डेढ़-डेढ़ लाख रुपए देकर पुरस्कृत किया गया। रवि दहिया के कोच प्रवीण दहिया को एक लाख रुपए देकर सम्मानित किया गया। इसके अलावा सात अन्य खिलाड़ियों को बीस-बीस हजार रुपए नकद प्रदान किए गए। फोगाट बहनों के पिता महावीर फोगाट का भी कार्यक्रम में सम्मान किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here