मेघसर के माध्यमिक विद्यालय में बा-बापू वन की स्थापना

0
117

जिला कलक्टर साँवर मल वर्मा ने जामुन का पौधा लगाकर किया शुभारंभ, रियाजत खान, रतन जांगिड़, दुलाराम सहारण सहित जनप्रतिनिधि, अधिकारी, शिक्षक रहे मौजूद

चूरू। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के 150 वें जयंती वर्ष एवं आजादी की 75 वीं वर्षगांठ पर चल रहे कार्यक्रमों में सिलसिले में नजदीकी गांव मेघसर के शहीद बीआर रणवां राजकीय माध्यमिक विद्यालय में बा-बापू वन विकसित किया जाएगा। शनिवार को जिला कलक्टर साँंवर मल वर्मा ने जामुन का पौधा लगाकर पौधारोपण कार्यक्रम का शुभारंभ किया।
इस मौके पर जिला कलक्टर ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी एवं कस्तूरबा गांधी को याद करते कहा कि गांधी पूरे विश्व में भारत की पहचान स्थापित करते हैं। उनके विचारों को जन-जन तक पहुंचाने के लिए विभिन्न कार्यक्रम किए जा रहे हैं। इसी सिलसिले में बा-बापू वन विकसित किया जाना प्रकृति और पर्यावरण के लिहाज से अत्यंत महत्त्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि भौतिकवाद की अंधी दौड़ में मनुष्य से प्रकृति के साथ बहुत खिलवाड़ किया है, जिसका खामियाजा हमें विभिन्न स्तरों पर भुगतना पड़ रहा है। जरूरत इस बात की है कि मनुष्य प्रकृति के साथ समन्वय स्थापित कर पारिस्थितिकी तंत्र को बेहतर बनाने के लिए काम करे। इस दिशा में वृक्षारोपण अत्यंत पुनीत कार्य है। उन्होंने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के 150 वें जयंती वर्ष एवं आजादी की 75 वीं वर्षगांठ के कार्यक्रमों में सक्रियता के लिए समिति की सराहना की तथा स्कूल के खेल मैदान में बा-बापू वन विकसित किए जाने के प्रयासों के लिए प्रधानाचार्य सुरेश कुमार शर्मा, विनोद ईसराण सहित स्टाफ व युवाओं को सराहा।गांधी-150 के जिला संयोजक दुलाराम सहारण ने बताया कि जिले में विभिन्न स्थानों पर बा-बापू वन और गांधी वाटिकाएं विकसित की जा रही हैं। प्रकृति के संरक्षण के लिए हमें अधिक से अधिक पेड़ लगाने चाहिए और पेड़ लगाने के साथ ही उनकी सुरक्षा भी सुनिश्चित करनी चाहिए।चूरू संयोजक रियाजत खान ने कहा कि पेड़ लगाने से भी अधिक महत्त्वपूर्ण उसकी देखभाल करना है। इसलिए शिक्षक, ग्रामीण और विद्यार्थी यह संकल्प लें कि इन लगाए गए वृ़क्षों की पूरी सुरक्षा सुनिश्चित करेंगे। सह संयोजक रतन जांगिड़ ने कहा कि बा-बापू वन के लिए स्कूल के शिक्षकों का प्रयास सराहनीय है और आने वाले वर्षों में इस पहल का सार्थक परिणाम नजर आएगा। प्रधानाचार्य सुरेश कुमार शर्मा ने विद्यालय की विभिन्न गतिविधियों की जानकारी दी।
गांव के व्याख्याता विनोद ईसराण ने बताया कि आठ बीघा भूमि में युवा साथी मिलकर एक हजार पौधे लगाएंगे। युवाओं ने अपने स्तर पर पाइप लाइन डलवाई है, जिससे कम पानी में पौधों की सिंचाई हो सकेगी। स्कूल में बड़े आकार का मीठे पानी का कुंड बना हुआ है, जिसमें बरसात का पानी आता है। उस मीठे पानी से पौधे अधिक बेहतर बढोतरी व सर्वाइवल कर सकेंगे। जिला कलक्टर ने इस दौरान विद्यालय में अध्यापिका शबाना शेख द्वारा विकसित किए गए उर्दू कक्ष का भी अवलोकन किया। इस दौरान सहायक निदेशक (जनसंपर्क) कुमार अजय, गांधी प्रकोष्ठ प्रभारी उम्मेद गोठवाल, प्रकोष्ठ सहायक दयापाल सिंह पूनिया, साहित्यकार कमल शर्मा, लोकेश ईसराण, सुरेश ईंसराण, राजेश, युसुफ, इस्माइल, प्यारेलाल, राकेश, जंगशेर आदि मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here