आत्मशुद्धि के लिए योग हमारी संस्कृति का मुख्य अंग है – लोकेश गौतम

0
578

सद्भावना सप्ताह : 20 से 26 अगस्त तक 

चूरू। राज्य सरकार के कला, साहित्य, संस्कृति व पुरातत्व विभाग, जिला प्रशासन व महात्मा गांधी जीवन दर्शन समिति के तत्वावधान में आयोजित ‘‘सद्भावना सप्ताह’’ के अन्तर्गत दूसरे दिन शनिवार को पुलिस लाईन, चूरू में ‘‘आत्मशुद्धि योग’’ कार्यक्रम आयोजित हुआ। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए अतिरिक्त जिला कलक्टर लोकेश कुमार गौतम ने जीवन में आत्मशुद्धि के लिए योग की महता बताते हुए कहा कि योग भारतीय संस्कृति का मुख्य अंग है, योग के जरिए हम रोगों से दूर रह सकते है। उन्होंने कहा कि योग एक जीवन शैली है जिसे विश्व के देशों ने स्वीकार किया है। उन्होंने कहा कि योग, प्राणायाम, आसन हमें स्वस्थ शरीर के साथ-साथ स्वच्छ सोच प्रदान करते हैं। उन्होंने कहा कि योग से आत्मशुद्धि का प्रचलन प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति को बढावा देता है। उन्होंने कहा कि गंभीर रोगों का उपचार योग में समाहित है। इस अवसर पर योगाचार्य डॉ. मनोज शर्मा ने आत्मशुद्धि योग कार्यक्रम में उपस्थित पुलिस अधिकारियों एवं पुलिस जवानों को योग की विभिन्न क्रियाओं की जीवन में महता से अवगत कराते हुए योगिक मुद्राएं करवाई। उन्होंने कहा कि जीवन में योग की सुक्षम क्रियाएं हमारी जीवन शैली में आमूलचूल बदलाव लाकर हमारी स्वच्छ सोच को बढावा देती है। कार्यक्रम में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक योगेन्द्र फौजदार, महात्मा गांधी जीवन दर्शन समिति के जिला संयोजक दुलाराम सहारण, गांधी 150 प्रकोष्ठ अधिकारी उम्मेद गोठवाल, गांधी-150 आजादी-75 के उपखण्ड संयोजक रियाजत खान, उप पुलिस अधीक्षक ओमप्रकाश गोदारा, एडीईओ सांवरमल गुर्जर, मुबारक भाटी सहित पुलिस अधिकारी एवं पुलिस जवान उपस्थित थे।।

डॉ. घनश्याम नाथ कच्छावा की नई पुस्तक “अटकळ” पर आखर में चर्चा 22 अगस्त को

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here