मिनिस्टर आॅन व्हील कार्यक्रम के तहत स्कूलों का आकस्मिक निरीक्षण

0
613
मिनिस्टर आॅन व्हील

जयपुर। शिक्षा एवं पंचायतीराज राज्यमंत्री वासुदेव देवनानी ने ‘‘मिनिस्टर आॅन व्हील’’ कार्यक्रम के तहत आज राजकीय बालिका उच्च माध्यमिक विद्यालय सराधना का औचक निरीक्षण किया। उन्होंने पास ही में चल रही प्राथमिक विद्यालय को इस विद्यालय में मर्ज करने तथा लिपिकों को दोनों समय हस्ताक्षर करवाने के निर्देश दिए। लगातार शानदार परिणाम दे रही इस स्कूल में बच्चों को सशक्त करने के लिए एक्स्ट्रा क्लास लगाने की परम्परा की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि आप नामांकन और बढ़ाओं, राज्य सरकार द्वारा यहां हर संभव मदद की जाएगी।

शिक्षा राज्यमंत्री वासुदेव देवनानी आज अपने व्यस्त कार्यक्रम के बीच अचानक राजकीय बालिका उच्च माध्यमिक विद्यालय सराधना का निरीक्षण करने पहुंचे। उन्होंने नामांकन, शिक्षकों की उपस्थिति, विद्यार्थियों का शैक्षणिक स्तर, सफाई, निर्माण कार्यों की गुणवत्ता, विद्यार्थियों की नई यूनिफाॅर्म, प्रांगण में आइना, पेयजल, टंकी की सफाई आदि बिन्दुओं पर निरीक्षण किया। उन्होंने स्कूल में नामांकन बढ़ाने का निर्देश देते हुए कहा कि शिक्षक एवं प्राचार्य स्कूल समय के पश्चात गांव में व्यक्तिगत सम्पर्क कर अभिभावकों को प्रेरित करें।

शिक्षा राज्यमंत्री ने विभाग के अधिकारियों से कहा कि उप निदेशक से ब्लाॅक तक के सभी जिम्मेदार अधिकारी यह सुनिश्चित करेंगे कि उनके क्षेत्रा के किसी भी स्कूल में खामियां नहीं रहे। यह जिम्मेदारी अधिकारी की भी है कि वह लगातार निरीक्षण कर अपने स्कूलों में सुधार करें। स्कूल के स्मार्ट क्लास रूम में कक्षाएं नहीं चलने पर श्री देवनानी ने प्राचार्य को तुरन्त क्लासेज शुरू करने का कहा।

अधिकारी व शिक्षकों को बाहर भेजा, विद्यार्थियों से ली स्कूल की जानकारी
शिक्षा राज्यमंत्री ने निरीक्षण के दौरान कक्षा 10 में बालिकाओं से स्कूल की व्यवस्थाओं के बारे में जानकारी ली। उन्होंने अधिकारियों व शिक्षकों को बाहर भेजकर विद्यार्थियों से कहा कि आप यहां की व्यवस्थाओं के बारे में बेहिचक हमें बता सकते है। उन्होंने कक्षा में नयी यूनिफाॅर्म पहनकर आने वाली बालिकाओं की प्रशंसा करते हुए कहा कि भूरी एवं कत्थई रंग की यह ड्रेस सभी विद्यार्थियों को पहनना अनिवार्य है। विद्यार्थी अपने आसपास की किसी भी दुकान से कपड़ा लेकर किसी भी दर्जी से नई यूनिफाॅर्म सिलवा सकते हैं।

बच्चे अच्छे अंक लाएं इसलिए लगती है एक्स्ट्रा क्लास
लगातार कई सालों से शानदार परिणाम दे रही इस स्कूल में विद्यार्थियों को विभिन्न विषयों में आ रही कठिनाई दूर करने और अच्छे अंक लाने के लिए एक्स्ट्रा क्लासेज लगती है। देवनानी ने इस परम्परा की प्रशंसा करते हुए कहा कि सभी स्कूलों को इस तरह के प्रयोग करने चाहिए। स्कूल को संसाधनों की कोई कमी नहीं आने दी जाएगी।

जारी रहेगा ‘‘मिनिस्टर आॅन व्हील’’ कार्यक्रम
शिक्षा राज्यमंत्री देवनानी ने बताया कि राज्य के सरकारी स्कूलों में शिक्षा में गुणात्मक सुधार, विद्यार्थियों को सुविधाओं की उपलब्धता एवं भौतिक संसाधनों का बेहतर रखरखाव सुनिश्चित करने के लिए मिनिस्टर आॅन व्हील कार्यक्रम लगातार जारी रहेगा। इसके साथ ही अधिकारी भी लगातार दौरा कर विभिन्न व्यवस्थाओं को सुनिश्चित करेंगे।
शिक्षा राज्यमंत्राी ने विभिन्न क्षेत्रों में किया पाइप लाइन व अन्य विकास कार्यों का शुभारम्भ
शिक्षा एवं पंचायतीराज राज्यमंत्री वासुदेव देवनानी ने कहा कि अजमेर शहर में डाली जा रही करोड़ों रूपए की नई पाइप लाइन शहर की जलापूर्ति के लिए वरदान साबित होगी। कई ईलाकों में पुरानी पाइप लाइनों के लीकेज के कारण पूरा पानी नहीं मिल पाता। अब इस समस्या से निजात मिल जाएगी। शहर स्मार्ट सिटी के रूप में विकसित होने जा रहा है। आने वाले दिनों में बुनियादी सुविधाओं को और मजबूत किया जाएगा।

शिक्षा राज्यमंत्री वासुदेव देवनानी ने आज अशोक विहार, गांधी नगर एलआईसी काॅलोनी, अपना नगर, अमर बाजार, हरि नगर लोहागल रोड आदि क्षेत्रों में कई किलोमीटर लम्बी नई पाइप लाइन डालने के कार्य का शुभारम्भ एवं अन्य विकास कार्यों का शिलान्यास किया। इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रमों को संबोधित करते हुए श्री देवनानी ने कहा कि अजमेर ऐतिहासिक काल से ही देश का प्रमुख केन्द्र रहा है। अब अजमेर का प्राचीन गौरव एक बार पुनः स्थापित हो रहा है। वाराणसी के बाद अजमेर ऐसा शहर है जहां स्मार्ट सिटी, हैरिटेज सिटी, हृदय, अमृत एवं सिटी आॅइकान जैसी सभी प्रमुख योजनाएं एक साथ लागू की गई है।

उन्होंने कहा कि स्मार्ट सिटी योजना के तहत शहर को विकसित करने का कार्य शुरू कर दिया गया है। आनासागर झील के चारों तरफ पाथवे बनाया जा रहा है। सुभाष उद्यान का भी कायाकल्प किया जा रहा है। योजना के तहत विभिन्न वार्डों में भी विकास कार्य कराए जाएंगे। राज्य सरकार शहर में सुविधाएं उपलब्घ कराने के लिए पूरी तरह संकल्पबद्ध होकर कार्य कर रही है। शहर एवं आसपास के गांवों में पेयजल समस्या के निराकरण के लिए करोड़ों रूपए स्वीकृत किए गए है। हाथीखेड़ा, अजयसर एवं खरेकड़ी आदि गांवों में तो आजादी के बाद पहली बार ग्रामीणों को घर-घर पेयजल के कनेक्शन दिए जा रहे है।

उन्होंने स्थानीय निवासियों से भी संवाद कायम कर उनकी अन्य समस्याओं एवं सुझावों के बारे में जानकारी ली। शिक्षा राज्यमंत्री ने कहा कि इन समस्याओं का भी शीघ्र समाधान किया जाएगा। इन कार्यक्रमों में पार्षद राजकुमार ललवानी, नीरज जैन, कुन्दन सिंह, सीताराम शर्मा सहित अन्य जनप्रतिनिधि, अधिकारी एवं क्षेत्रावासी उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here